Shri Rani Bhatiyani Jasoldham, Aarti

“श्री राणीसा भटियाणीसा जसोलधाम”

आराधे पधारो मईया होवै निज आरती, कविजन कीरत गान करे ।

 जसोल री धणियाणी कुंवर लाल बन्ना जननी, घर पर कुंकुम चरण धरे || १ 

आराधे पधारो मईया होवै निज आरती ॥

परगट जोत अवल हुई पूजा, धन धन जग अवतार घरे । 

संत सुख कारणी संकट संहारणी, कर किरपा कल्याण करे ॥ २

 आराधे पधारो मईया होवै निज आरती ॥

पूरब कवल असल परमाणा, वचन चंद्रावळ रूप वरे ।

 संतशिरोमणी रूपांदे समोवड़, धन जादम कुळ जनम घरे ॥ ३ 

आराधे पधारो मईया होवै निज आरती………….॥

जोगीदास कुंवरी पूजांणी जगत में, सरूपां भटियाणी नित नाम सरे । 

भोमिया सवाईसिंह संग में भणीजै, हाजिर परचा पीड़ हरे ॥४ 

आराधे पधारो मईया होवै निज आरती ॥

रजवट धर्म कल्याण कंत रमणी, केशर वरणी राज करे । 

दोऊ पख ऊजळ बखाणे सारी दुनिया, भगत साधक मन मोद भरे ॥ ५ 

आराधे पधारो मईया होवै निज आरती ॥

जळहळ भळकै देवळ ज्योती, फरहर धजा गगन फहरे । 

झणणण नाद शंख धुन झालर, घमम नगारा ढोल घुरे ॥ ६ 

आराधे पधारो मईया होवै निज आरती ॥

सुमरत कौम छत्तिसोई सेवक, थानक दरस्या नैण ठरे । 

राजा रंक भजै सब रैयत कर वंदन जयकार करे ॥ ७ 

आराधे पधारो मईया होवै निज आरती………….॥


काटो कष्ट जगत कल्याणी, भजन कियां भण्डार भरे । 

मेहर करो मां मौत्यांवाळी, कवि “काळू अरदास करे ॥८ 

आराधे पधारो मईया होवै निज आरती……..॥

AARTI TIMING

Summer

5:30 A.M
7:30 PM

Winter

6:00 A.M
6:30 PM

LOCATION